Monday , October 26 2020
Fire & Safety

Safety officer Course In India

How to become a safety officer in Hindi

 Safety officer Course In India

हमारे देश में बहुत सारे संस्थान Fire & Safety Courses को संचालित करतें। जो हमारे देश को अच्छे  Safety officer प्रदान करने में मदद करतें हैं। 

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (NCRB) की रिपोर्ट के अनुसार आग से मौत होने के तीन मुख्य कारण सामने आये है।  

  1. घरेलू आग, 
  2. अद्योगीक दुर्घटनाएं 
  3. इन्फेर्नोस (फॉरेस्ट फ़ायर) जो कभी-कभी जंगल और घास के मैदानो को उजाड़ देती है।

 Safety officer course के बारे मे वर्तमान परिदृश्य 

भारत में पिछले चार वर्षों से तेजी से औद्योगिकरण हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार द्वारा शुरू की गई मेक इन इंडिया पहल के साथ-साथ विदेशी प्रत्यक्ष निवेश और विदेशी संस्थागत निवेश में वृद्धि ने भारत में एक औद्योगिक हब बनने की तरफ बढ़ाया है।

2016 के बाद मै केंद्र सरकार द्वारा शुरु की गई उज्वल्ला और उज्वल्ला प्लस योजनाएं ग्रामिण क्षेत्रों मै केंद्रित भारत के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गो के लिये 5 करोड़ से अधिक द्रविभूत पेट्रोलियम गैस कनेक्शन और सिलेंडर की पेशकश करने का लक्ष्य रखती है।

एल.पी.जी के प्रसार से घरेलू आग लगने का खतरा बढ सकता है,  अगर ये सिलेंडर ठीक से इस्तेमाल ना किये जाये तो। 

इसके अतिरीक्त, सरकार देश के दुरुस्त इलाको मै बिजली प्रदान करने के लिये कदम उठा रही है। 

अक्सर, उच्च तनाव वाले बिजली के केबल और घरेलू बिजली कनेक्शन शॉर्ट सर्किट आग  का संकट बढ़ाते है।

ये तथ्य भारत में Fire & Safety officers की महत्वपूर्ण अवश्यकता को इंगित करतें है। 

इसलिये आप Fire & Safety officers courses करके इस क्षेत्र मै एक शानदार करियर बना सकते है। 

विभिन्न स्रोतों के अनुसार भारत को हर साल 15000 से 20000 फ़ायर और सुरक्षा पेशावरो की अवश्यकता होती है। 

दुर्भाग्य से वर्तमान में इन कुशल लोगो की कमी है।

 

Safety officer course की बिभिन्न श्रेणियाँ  

यह एकमात्र शैक्षणिक पाठ्यक्रम हैं जो आप सात विभिन्न श्रेणियों के तहत कर सकते हैं। 

अधिकांश व्यावसायिक अध्ययनों के विपरीत, आप अपने माध्यमिक विद्यालय प्रमाणपत्र (10th) के पूरा होने पर फायर और सेफ्टी कोर्स कर सकते हैं।

 इसके अतिरिक्त, ग्रेजुएट, इंजीनियर, और अन्य पेशेवर भी Fire & Safety के विशेषज्ञ हो सकते हैं।

  • सर्टिफिकेट कोर्स
  • औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान पाठ्यक्रम
  • फ़ायर और सुरक्षा में डिप्लोमा
  • बैचलर ऑफ साइंस (फायर एंड सेफ्टी)
  • फायर एंड सेफ्टी में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा / डिग्री
  • इंजीनियरिंग (फायर एंड सेफ्टी)
  • मिश्रित अग्नि और सुरक्षा पाठ्यक्रम 

 

Fire & Safety में डिप्लोमा

जिन छात्रों ने अपने 10th ,12th  या उनके समकक्ष पूरा कर लिया है,

वे अग्नि और सुरक्षा में डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के लिए नामांकन कर सकते हैं। 

आपके द्वारा नामांकित संस्थान के आधार पर, अग्नि और सुरक्षा में एक विशिष्ट डिप्लोमा की अवधि 11 महीने से दो वर्ष तक होगी।

 कुछ सामान्य डिप्लोमा पाठ्यक्रम:

Fire & Safety  में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा/डिग्री

 

यहाँ, हम अग्नि और सुरक्षा में अत्यंत विशिष्ट पाठ्यक्रमों को देखते हैं।  

इनके लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए, आपको Safety officer संबंधी कोर्स में बी.एस.सी की आवश्यकता होगी।  

ये पाठ्यक्रम डिप्लोमा धारकों के लिए भी खुले हैं।  पाठ्यक्रम में शामिल हैं:-

  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन फायर सेफ्टी एंड हैज़र्ड मैनेजमेंट
  • औद्योगिक सुरक्षा में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा
  • स्वास्थ्य सुरक्षा और पर्यावरण में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा
  • स्वास्थ्य सुरक्षा और पर्यावरण में ऐडवांस्ड डिप्लोमा
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन फायर एंड रिस्क असेसमेंट
  • मास्टर ऑफ़ साइंस, हेल्थ, सेफ़्टी ऐण्ड मैनेजमेंट
  • मास्टर ऑफ़ साइंस इन फ़ायर सेफ़्टी ऐण्ड हैज़र्ड मैनेजमेंट

 

Safety officer course संस्थान और संगठन

कई प्रतिष्ठित संस्थान और संगठन हैं जो अग्नि और सुरक्षा के साथ-साथ professionals के लिए नेटवर्किंग के अवसर प्रदान करते हैं।

 

Safety officer रोजगार की संभावनाए

औद्योगिकीकरण, निर्माण में तेजी, भारत में कस्बों की संख्या में वृद्धि साथ-साथ अग्नि और सुरक्षा के बारे में जागरूकता बढ़ने से योग्य कर्मियों के लिए नौकरी की रिक्तियों में तेजी से वृद्धि हुई है।

  लगभग हर उद्योग विभिन्न स्तरों पर आग और सुरक्षा पेशेवरों की तलाश करता है।

उपयुक्त योग्यता के साथ, आप नीचे दिए गए किसी भी उद्योग में नौकरी पा सकते हैं। 

हालांकि, लगभग हर जगह आग और सुरक्षा पेशेवरों की आवश्यकता होती है।

  • तेल, गैस और हाइड्रोकार्बन ईंधन
  • हवाई अड्डे, भारतीय रेलवे
  • ऑटोमोबाइल निर्माता
  • अस्पताल
  • सरकारों, नगर पालिकाओं और बड़े निगमों के अग्निशमन विभाग / फायर ब्रिगेड
  • रियल एस्टेट और निर्माण
  • इंजीनियरिंग फर्म
  • वन मंडल
  • पोर्ट और शिपिंग
Safety officer  सैलेरी

अब सबसे महत्वपुर्ण विषय आता है की हमे इसमे वेतन कितना मिलेगा। 

अमेरिका स्थित PayScale के अनुसार, जो दुनिया भर में वेतन और पारिश्रमिक रुझानों पर नजर रखता है, 

भारत में एक अग्नि और सुरक्षा विशेषज्ञ 170,000 रु से 730,000 रु प्रति वर्ष तक कमा सकता है। 

19 दिसंबर, 2017 को PayScale द्वारा आंकड़े अपडेट किए गए थे।

 ये आंकड़े भारत के अग्नि और सुरक्षा क्षेत्र में काम करने वाले कुछ 920 व्यक्तियों द्वारा उपलब्ध कराए गए इनपुट पर आधारित हैं।

औसतन, एक फायरमैन प्रति वर्ष 330,000 वेतन के रूप में पाता है। 

जबकि सुरक्षा अधिकारियों को प्रति वर्ष लगभग Rs.282,000 रु वेतन मिलता है। 

फायर फाइटर्स का वार्षिक वेतन रु .90,000 और फायर प्रोटेक्शन इंजीनियर्स रु  201,980 के करीब होता है।

ये वेतन विशुद्ध रूप से सांकेतिक हैं और PayScale को प्रदान किए गए इनपुट पर आधारित हैं। 

आपका वेतन बहुत अलग हो सकता है और योग्यता, विशेषज्ञता और अनुभव पर आधारित होता है।

समापन से पहले, हम दोहराते हैं, आग और सुरक्षा नौकरियों में अक्सर उच्च जोखिम होते हैं। 

आग और सुरक्षा पाठ्यक्रम पर काम करने से पहले इन कारकों पर सावधानीपूर्वक विचार करें। 

हमारी अन्य पोस्टो को  नीचे क्लिक करें 

UPSC Exam

 

Spread the love

Check Also

BBA Course

BBA ki full form

 BBA men Career Kaise banaye, BBA Kya Hota Hai BBA एक स्नातक डिग्री है  इस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *